1971- A people’s History From Bangladesh, Pakistan and India by Anam Zakaria

1971- A people's History From Bangladesh, Pakistan and India written by Anam Zakaria looks at the momentous events of 1971 from multiple perspectives of people from three countries. It brings out the way people construct memory of the events. A book written to explore the complexity of reality, without losing sight of the facts of history. A book review by Rajesh K. Jha

सैयद शमशुल हक की कविताएं -2 (बंगलादेश)

सैयद शमशुल हक (1935-2016) बंगलादेश के अग्रणी कवि, हैं। उनकी रचनाओं में आधुनिकताबोध के साथ ही बंगलादेश की सांस्कृतिक विरासत की गंध पिरोयी होती है। उन्होंने कविता, नाटक और उपन्यास के साथ ही अनेक विधाओं में रचनाएं की। ये कविताएं सैयद शमसुल हक के काव्य संग्रह पोरानेर गहीन भीतोर के अंग्रेजी अनुवाद से ली गयी हैं। अंग्रेजी अनुवाद प्रोफेसर सोनिया अमीन ने किया है। उनकी दस कविताओं का अनुवाद अंग्रेजी से हिंदी में दो खंडों में किया गया है। दूसरा खंड।

सैयद शमशुल हक की कविताएं -1 (बंगलादेश)

सैयद शमशुल हक (1935-2016) बंगलादेश के अग्रणी कवि, हैं। उनकी रचनाओं में आधुनिकताबोध के साथ ही बंगलादेश की सांस्कृतिक विरासत की गंध पिरोयी होती है। उन्होंने कविता, नाटक और उपन्यास के साथ ही अनेक विधाओं में रचनाएं की। ये कविताएं सैयद शमसुल हक के काव्य संग्रह पोरानेर गहीन भीतोर के अंग्रेजी अनुवाद से ली गयी हैं। अंग्रेजी अनुवाद प्रोफेसर सोनिया अमीन ने किया है। उनकी दस कविताओं का अनुवाद अंग्रेजी से हिंदी में दो खंडों में किया गया है। पहला खंड।

दनुशा लमेरिस की कविताएं

दनुशा लमेरिस अमरीका में रहती हैं। उनकी कविताओं के संग्रह The Moons of August को 2013 में Autumn House Press पुरस्कार के लिए चुना गया था। वे कहती हैं कि अपनी भाषा नहीं बोल पाना एक तरह का देश-निकाला है जिसका व्यक्ति पर गहरा असर होता है। उनकी दो कविताओं का अनुवाद

Beatles,Bangladesh and Borges

Roof top concerts have a long and illustrious history. Beatles rooftop concert in 1969 is legendary but the Bangladeshi Aamader Chhade (Our Terrace) performances are great. Through this piece I look at some of the roof top concerts and explore the rich heritage of Bangladeshi music. Read this with a pair of headphones plugged into your ears and don’t forget to click the links.

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: