चिनार की पीली गवाही में दफनाया है मैंने*

कवि, कहानीकार तथा अनुवादक के. श्रीलता आधुनिक भारतीय अंग्रेजी लेखकों में एक जानी मानी नाम हैं। उनके अनेक चार काव्य संग्रह तथा एक उपन्यास प्रकाशित। बिंबों की सरलता और लेखन की सादगी उनकी कविताओं की खास पहचान है। वे आईआईटी मद्रास में अंग्रेजी की प्रोफेसर हैं। 

मेनका शिवदासानी की कविताएं

मेनका शिवदासानी के अबतक दो काव्य संग्रह Nirvana at Ten Rupees, and Stet प्रकाशित हो चुके हैं। भारत के बंटवारे पर केंद्रित सिंधी कविताओं का उनके द्वारा किया गया अनुवाद साहित्य अकादमी से प्रकाशित हुआ है। वे कविताओं तथा साहित्य से संबंधित अनेक संस्थाओं एवं कार्यक्रमों से जुडी रही हैं। अंग्रेजी से उनकी चार कविताओँ का अनुवाद।