झेवाहिर स्पाहियू की कविताएं (अल्बानिया)

अनुवाद- राजेश कुमार झा

कवि परिचय- झेवाहिर स्पाहियू, जन्म 1945, अल्बानिया। कवि, नाटककार, शिक्षक तथा पत्रकार। अल्बानिया की नयी पीढ़ी के कवियों में एक महत्वपूर्ण नाम। स्पाहियू की कविताएं अल्बानिया के एकदलीय शासन व्यवस्था के बीच जीने का प्रायश्चित भी करती है और बदली हुई व्यवस्था के खोखलेपन को भी उकेरती है। उनकी कविताओं में एक अलग सी ऊर्जा और साहस दिखाई देता है। स्पाहियू की कविताओं में विशिष्ट प्रकार के अर्थ गुंफित होते हैं जो अपने आप में अनेक तरह की संभावनाओं के द्वार खोलते हैं। अब तक उनके अनेक काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। 

मेरा सफर

(झेवाहिर स्पाहियू- Xhevahir Spahiu- अल्बानिया)
(अनुवाद- John Hodgson)

सवार होकर बादलों पर,
जाऊंगा अपने पहाड़ों से भी ऊपर,
अगर वे चाहेंगे बारिश,
अपने आंसुओं से भिगो दूंगा उन्हें।चखूंगा हवा का स्वाद,
घोड़े पर होकर सवार,
जब प्यार कर रहा होगा मेरा इंतजार।नदी पर होकर सवार,
कहूंगा ले चल समंदर की ओर,
ढोऊंगा अपनी पीठ पर जहाजों का बोझ।

फलों के पेड़ पर करूंगा सवारी,
ताकि वो न रोए चिड़ियों के बगैर,
डूब जाएं इसकी जड़ें जमीन के अंदर गहरी और।
सपनों पर करूंगा सवारी,
बिना लगाम, बिना रकाब,
लेकर जाएगी मुझे इंद्रधनुष के पार।
गीतों पर होकर सवार,
बनकर इसका मालिक और गुलाम,
स्थिर होकर भी, गाऊंगा गति के गीत।

My Travels-Xhevahir Spahiu-Albania-English Text

मेरे कर्ज

(अंग्रेजी अनुवाद- रॉबर्ट एल्सी- Robert Elsie)

मैं मरने वाला हूं,
कर्ज में डूबा मरूंगा मैं,
पानी में डूबकर या गैस चैंबर के अंदर मरना तो कुछ भी नहीं।

कर्ज है मुझपर मां का,
उसकी कब्र पर मैंने नहीं लगाया स्मृति-पाषाण,
मुझ पर कर्ज है शाहबलूत के पेड़ का,
खड़ी नहीं की जिसके चारों तरफ जाली,
कर्ज है मुझपर प्यार का,
चुरा लिया जिसे मैंने पिछले रविवार को,
कर्जदार हूं मैं अपराध का,
जिसे मैंने बुलाया नहीं उसके नाम से,
मैं मरने वाला हूं,
कर्ज में डूबा मरूंगा मैं।

मैं कर्जदार हूं लफ्जों का,
क्योंकि देखा नहीं मैंने उसे सपने में।
काले कौए का कर्ज है मुझ पर,
मैंने नहीं किए सफेद इसके पंख।
1913 का कर्ज है मुझपर,
क्योंकि मैंने नहीं सुखाए इसके घाव।
भविष्य का कर्जदार हूं मैं,
क्योंकि इसकी दहलीज पर छोड़ दिया मैंने युगों पुराना अंधकार।
मैं मरने वाला हूं,
कर्ज में डूबा मरूंगा मैं।

जिंदा लोगों का कर्जदार हूं मैं,
और मुर्दों का भी,
बेचना होगा मुझे अपनी कब्र का पत्थर,
तभी उतरेगा मेरा कर्ज,
और लगेगा पूर्णविराम।
अब है तुम्हारी बारी,
बताओ उन कर्जों के बारे में,
जो मैंने दिए हैं तुम्हें।

My Debts-Xhevahir Spahiu-Albania-English Text

आजादी का गीत

(अंग्रेजी अनुवाद- रॉबर्ट एल्सी- Robert Elsie)

जिबह किए भेड़ की तरह छटपटाती है धरती,
गड़ेरिया पूछता है- क्या है इस जिंदगी का मतलब?
मरा हुआ इंसान अचरज में कहता है- फिर से मध्ययुग की ओर?
मटमैली नदी की तरह,
बड़बड़ा रहा है कवि, गुस्से में होकर आगबबूला।
आगे बढ़कर चुरा लिया उन्होंने नेतृत्व (They stole the lead….)
कर दिया गोलियों से छलनी,
खून में लथपथ हो रहे हैं बच्चे,
घर की चौखट पर बेहोश पड़ा है कोई बूढ़ा,
राजधानी में चल रहा है बेसुध-बेतहाशा उत्सव।

बदले की आवाज हर तरफ, गूंज रहे हैं नारे-
एकता, भाईचारा, परदे के पीछे चल रहा अपराध,
कर  दी है उन्होंने समाप्ति की घोषणा।
मगर संगीत?
क्या बेड़ियों से आजाद होगा संगीत?
क्या जिंदगी निकाल पाएगी खुद ब खुद,
अपनी पीठ में भोंका हुआ छुरा ?
अपने नवें महीने में है कोसोवो,
पैदा होगी आजादी।

रविवार की टैक्सियां
इस बारिश भरी रात में,
स्टेशन के बाहर चीड़ के पेड़ के नीचे
सत्ताइस टैक्सियां चुपचाप कर रही है इंतजार,
कल वे फिर जाएंगी शहर के उस पार,
जैसे मेरे मटमैले रेनकोट पर गिरती हैं बूंदें।
कौन सा सफर कर रहा है उनका इंतजार?
कैसे सपने उमड़ते हैं?

निओन रोशनी में सो रही इन टैक्सियों की आंखों में?
उनके लौह-स्वप्न में घुलमिल रही हैं जिंदगी की छायाएं,
कल जो चौराहे पर काटेंगी एक दूसरे का रास्ता।
कुछ पर होंगे लोग जिन्हें मिला होगा सच्चा प्यार,
कुछ में रोएंगे जोड़ी मिलाने वालों से ठगे गए इंसान।
अगर मुझे हो मालूम आंसू करेगी सवारी किस पर,
उनके पहिए के नीचे खुद को फेंक रोक लूंगा रास्ता

Song of Freedom-Xhevahir Spahiu-Albania-English Text

तुम्हारे साथ होना

छूना तुम्हारी चुप्पी को जैसे छूना कोई सामान,
घूरना तुम्हारी आंखों की गहराइयों को,
जहां तैरता है प्यार जैसे हो कोई नाव,
और नहीं चाहना कि रहूं तुम्हारे साथ हमेशा?
डालकर तुम्हारे कंधों पर हाथ चलना,
और नहीं सुनना नीली लहरों का शोर,
मेरे सर पर है उगा नींबू का पेड़?
रातों को जैसे नावों को पसंद आती है आग?
तुम्हारे साथ होना,
हंसना तुम्हारे साथ,
और नहीं समझना कि अपनी ही सीप से निकल भागने का
जतन कर रहा है समुद्र?
तुम्हारे साथ होना? तुम्हारे साथ होना!

To be with You-Xhevahir Spahiu- English Text

इतिहास

टपकता रहा खून और बना ली जड़ें चट्टानों में,
मोटे, सफेद मलमल से,
हमने तलवारों के पोछ डाले खून,
जब हमारे पास नहीं थे हथियार,
खींच कर हम निकाल लेंगे अपने बदन से हड्डियां,
बना लेंगे तलवार।

Historyr- Xhvahir Spahiu- Albania- English Text

बाज

झपट्टा मारकर झंडे पर,
एक दिन,
नीले आसमान से नीचे उतरा बाज।
दिल ने कहा हाथ से,
बना लो मूर्ति इसकी,
हाथ ऩे पत्थर में उकेर दी मूर्ति।
पहाड़ों के तीखे ढलान में अपने आसियाने से उतर,
छा गया बाज गीतों में हर तरफ।
धंस गया नायक की छाती के अंदर,
ले ली उसके दिल की जगह।

Eagle-Xhevahir Spahiu-Albania-English Text

नदी का अनुवाद

बैठकर करता रहा अनुवाद नदी का,
मगर मुश्किल है पानी की इस चीज का तर्जुमा,
दुर्लभ शब्द,
निश्चित हावभाव,
कभी न बदलने वाला सुरतान,
सैकड़ों झरने मिलकर,
सुना रहे इतिहास का मिथक।
सारी रात करता रहा अनुवाद नदी का,
सुबह हुई,
गायब हो चुका था मूल कथ्य।

Translation of the River- Xhevahir Spahiu-Albania-English Text

2 thoughts on “झेवाहिर स्पाहियू की कविताएं (अल्बानिया)

  1. Sanjay Kumar Singh

    The vivid images used by the poet truly reflects the feelings and emotions he wants to convey. The translation does justice as one is still able to relate to the poet.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s