रवींद्रनाथ टैगोर की कविता

anand-coomarswamy
Anand Coomarswamy

(आनंद कुमारस्वामी की पुस्तक डांस ऑफ शिवा से उद्धृत)

अनुवाद- राजेश कुमार झा

विरक्त हो संसार से, मुक्ति का यह मार्ग नहीं मेरा।

संसार चक्र के शतबंधन से आबद्ध,

करूँ आस्वादन अनंतमुक्ति, अमृतरस का…

ध्वनि, दृश्य, गंध के हर स्पंदन से निःसृत,

करूँ रसपान तेरे परम आह्लाद का,

भाव व आसक्ति  की चिंगारी से सिंचित होगी

धू धू कर उठती मुक्ति की महाज्वाला।

भक्ति की वाटिका में प्रस्फुटित होगा,

प्रेम का पुष्प, कोमल-सुमधुर, मेरा।

Ravindra Nath Tagore Poem(English) quoted in Anand Coomarswamy Book ‘Dance of Shiva

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s